उजियारे की तमन्ना | Hindi Love Poem

Spread the love

उजियारे की तमन्ना

Love poem in hindi

 

जिसका सौंदर्य अपनी सुगन्ध से
इस तन को महका जाता है
जिसके चिंतन के जालों से
यह मन भटका जाता है
जिसके नयनों की मादकता
कदमों को स्थिर ना रहने दे
जिसके श्रृंगार की खन खन
छन छन अपने वश में ना रहने दे
hindi love poem
जिसके मुख चन्द्र की एक झलक
न्यारी हो सारी कुदरत में
जिसके शब्दों का सुर प्रवाह
 कोई झरना हो पर्वत में
कदमों की आहट सीने को
जैसे छलनी कर जाये
और सांसो की गरमाहट में
हर दुःख की बर्फ पिघल जाये
hindi love poem
 इस जीवन के हर एक क्षण में
जो सबसे सुंदर स्वप्न सा हो
कठिनाई या विपरीत घड़ी में
हो पारस या स्वर्ण रत्न सा हो
बस इच्छा है इस जीवन में
सूरज सा उजियारा कर दे
आधे से एकाकी मन में आकर
कोई खुद से भी प्यारा कर दे।

hindi poem on love

लेखक परिचय – उजियारे की तम्मना (Love poem in hindi ) हिन्दीवाल के लिए ये रचना श्याम भट्ट जी ने भेजी है। श्याम भट्ट मूल रूप से चम्पावत (उत्तराखण्ड) के रहने वाले हैं। वर्तमान में सोबन सिंह जीना परिसर अल्मोड़ा में बी.एड. के छात्र हैं। साथ ही आकाशवाणी में कम्पीयर के रूप में कार्य करते हैं। कविता एवं शायरी लेखन में रुचि रखते हैं.


Corona Par Kavita | कोरोना पर कविता हिंदी में
प्रेरणादायक अनमोल वचन और सुविचार | INSPIRATIONAL THOUGHTS IN HINDI (SUVICHAR)
जल संरक्षण पर नारे | Slogans and Quotes on Save Water in Hidni
स्वामी विवेकानंद के महत्वपूर्ण विचार (Swami Vivekananda Quotes In Hindi)
Sachi khusi kese mile | सच्ची खुसी कैसे मिलती है | How to get real Happiness

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *